Home कोरोना भारत में कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल पर आज आ सकता है बड़ा...

भारत में कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल पर आज आ सकता है बड़ा फैसला

776

ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया 11 बजे कर सकता है तारीखों का ऐलान

नई दिल्ली ब्यूरो : इस महीने भारत को वैक्सीन का तोहफा मिल सकता है. कल एक्सपर्ट कमेटी ने कोवीशील्ड और कोवैक्सीन को हरी झंडी दी थी. ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया आज सुबह 11 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बड़ा एलान कर सकता है. कोवैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी के लिए एक्सपर्ट कमेटी ने सिफारिश की है.

सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी ने भारत बायोटेक और ऑक्सफोर्ड और एस्ट्रेजनेका की वैक्सीन, जिसका निर्माण और क्लीनिकल ट्रायल सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया कर रही है, उसकी कोरोना वैक्सीन पर अपनी सिफारिश दी. इमरजेंसी यूज ऑथोराइजेशन की अनुमति देने की सिफारिश की गई है. सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी की सिफारिश के बाद फैसला डीसीजीआई यानी ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया को करना है. कोरोना वैक्सीन पर CSIR के प्रमुख डॉक्टर शेखर मांडे ने कहा कि कोरोना वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है और इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं है. उन्होंने लोगों से टीका लगवाने में ना डरने की अपील की है.

भारत को दो वैक्सीन मिलने की संभावना

साल के पहले दिन यानी एक जनवरी को सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी ने ऑक्सफोर्ड और एस्ट्रेजनेका के वैक्सीन के इमरजेंसी रिस्ट्रिक्टेड यूज के लिए अपनी सहमति दी थी. वहीं दूसरे दिन दो जनवरी को भारत में भारत बायोटेक द्वारा बनाई जा रही वैक्सीन को भी इमरजेंसी रिस्ट्रिक्टेड यूज की अनुमति देने की सिफारिश कर दी. यानी भारत को कोरोना के खिलाफ दो वैक्सीन मिलने की पूरी संभावना है. बस डीसीजीआई की इसपर अनुमति बाकी है.

डीसीजीआई के आला अधिकारियों के मुताबिक ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया जब किसी दवा या ड्रग को अनुमति देते है तो उस कंपनी को CT23 यानी अनुमति मिलती है. इसके मिलने के बाद दवा कंपनी की जिस राज्य में फैक्ट्री होती है वहां स्टेट ड्रग रेगुलेटरी अथॉरिटी से जाकर ड्रग एंडोर्समेंट की मांग करती है. इसके बाद वो दवा या वैक्सीन रोल आउट होती है. इस प्रक्रिया में जानकारों के मुताबिक 4 से 5 दिन लग सकते है.

इन कंपनियों ने मांगी थी अनुमति

भारत में कुल तीन वैक्सीन कंपनियों ने इमरजेंसी यूज ऑथोराइजेशन के लिए अनुमति मांगी थी. ये फाइजर, भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया हैं. इसके लिए कई बार सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी की बैठक हुई. सबसे पहली बैठक 9 दिसंबर को हुई थी इसके बाद 17 दिसंबर, 30 दिसंबर, 1 और 2 जनवरी 2021 बैठक हुई. बैठक में इन कंपनियों के ह्यूमन क्लीनिकल ट्रायल का डाटा का रिव्यू किया गया. साथ ही रोलिंग रिव्यू डाटा भी मांगा गया था.

हर्षवर्धन ने कहा- अफवाहों पर न दें ध्यान

ऐसे समय में जब भारत दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान को शुरू करने जा रहा है, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने शनिवार को कहा कि लोग टीके के बारे में किसी भी अफवाह पर ध्यान न दें. वर्धन ने यहां एक सरकारी अस्पताल में ड्राई रन की समीक्षा के बाद कहा, मैं लोगों से अपील करता हूं कि वे किसी भी अफवाहों पर विश्वास न करें. टीका परीक्षण में हमारा मुख्य मापदंड सुरक्षा और प्रभावकारिता है, इससे कोई समझौता नहीं किया जाएगा.

Previous articleNagpur | करंट लगने से जख्मी हुए बंदर को बचाया
Next articleMaharashtra | मुंबई पोलिसांच्या ताफ्यात आता ‘सेगवे’
वाचकांनो आपन “आत्मनिर्भर खबर डॉट कॉम” ला ट्वीटर, इंस्टाग्राम आणि फेसबुक पर फॉलो करत आहात ना? अजूनपर्यंत ज्वाइन केले नसेल तर आमच्या अपडेट्स साठी आत्ताच क्लिक करा (ट्वीटर- @aatmnirbharkha1), (इंस्टाग्राम- @aatmnirbharkhabar2020), (यू ट्यूब-@aatmnirbhar khabar )(फेसबुक- @aatmnirbharkhabar2020).