Home हिंदी राजीव गांधी जयंती: राहुल ने पिता को किया याद, पीएम ने दी...

राजीव गांधी जयंती: राहुल ने पिता को किया याद, पीएम ने दी श्रद्धांजलि

331
0

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का आज जन्मदिवस है. इस मौके पर उनके बेटे और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने उन्हें याद करते हुए कहा कि राजीव गांधी अपने समय से काफी आगे के व्यक्ति थे, लेकिन सबसे बढ़कर, वह एक दयालु और प्यार करने वाले इंसान थे. उन्होंने ये भी कहा कि मैं अविश्वसनीय रूप से भाग्यशाली और गर्वित हूं कि आप मेरे पिता हैं. हम आपको आज और रोज याद करते हैं. वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी राजीव गांधी को श्रद्धांजलि दी. उन्होंने कहा कि जयंती पर पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी जी को श्रद्धांजलि.

इन उपलब्धियों के लिए याद किए जाते हैं राजीव

1- वोट करने की आयु सीमा घटाई
पहले देश में वोट करने की आयु सीमा 21 वर्ष थी, युवा प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने 18 वर्ष की उम्र के युवाओं को मताधिकार देकर उन्हें देश के प्रति और जिम्मेदार व सशक्त बनाने की पहल की. 1989 में संविधान के 61वें संशोधन के जरिए वोट देने की आयु सीमा 21 से घटाकर 18 वर्ष कर दी गई. इस प्रकार अब 18 वर्ष के करोड़ों युवा भी अपना सांसद, विधायक से लेकर अन्य निकायों के जनप्रतिनिधियों को चुन सकते हैं.

2- कंप्यूटर क्रांति
राजीव गांधी का मानना था कि विज्ञान और तकनीक की मदद के बिना उद्योगों का विकास नहीं हो सकता. राजीव गांधी को भारत में कंप्यूटर क्रांति लाने का श्रेय दिया जाता है. उन्होंने ना सिर्फ कंप्यूटर को भारत के घरों तक पहुंचाने का काम किया बल्कि भारत में इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी को आगे ले जाने में अहम रोल निभाया. तब कंप्यूटर महंगे होते थे, इसलिए सरकार ने कंप्यूटर को अपने कंट्रोल से हटाकर पूरी तरह ऐसेंबल किए हुए कंप्यूटर्स का आयात शुरू किया जिसमें मदरबोर्ड और प्रोसेसर थे. उन्होंने कंप्यूटर तक आम जन की पहुंच को आसान बनाने के लिए कंप्यूटर उपकरणों पर आयात शुल्क घटाने की भी पहल की.

3- पंचायतीराज व्यवस्था की नींव
पंचायतीराज व्यवस्था की नींव रखने का श्रेय भी उन्हें ही जाता है. दरअसल, राजीव गांधी का मानना था कि जब तक पंचायती राज व्यवस्था मजबूत नहीं होगी, तब तक निचले स्तर तक लोकतंत्र नहीं पहुंच सकता. उन्होंने अपने कार्यकाल में पंचायतीराज व्यवस्था का पूरा प्रस्ताव तैयार कराया. 21 मई 1991 को हुई हत्या के एक साल बाद राजीव गांधी की सोच को तब साकार किया गया, जब 1992 में 73वें और 74वें संविधान संशोधन के जरिए पंचायतीराज व्यवस्था का उदय हुआ. राजीव गांधी की सरकार की ओर से तैयार 64वें संविधान संशोधन विधेयक के आधार पर नरसिम्हा राव सरकार ने 73वां संविधान संशोधन विधेयक पारित कराया. 24 अप्रैल 1993 से पूरे देश में पंचायती राज व्यवस्था लागू हुई.

4- नवोदय विद्यालयों की नींव
ग्रामीण और शहरी वर्गों में नवोदय विद्यालयों की नींव भी राजीव गांधी ने ही रखी. उनके कार्यकाल में ही जवाहर नवोदय विद्यालयों की नींव डाली गई. ये आवासीय विद्यालय होते हैं.

5- एनपीई  की घोषणा
राजीव गांधी की सरकार ने 1986 में राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनपीई) की घोषणा की. इसके तहत पूरे देश में उच्च शिक्षा व्यवस्था का आधुनिकीकरण और विस्तार हुआ.

6- दूरसंचार क्रांति
कम्प्यूटर क्रांति की तरह ही दूरसंचार क्रांति का श्रेय भी उन्हीं को जाता है. राजीव गांधी की पहल पर ही अगस्त 1984 में भारतीय दूरसंचार नेटवर्क की स्थापना के लिए सेंटर फॉर डिवेलपमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स की स्थापना हुई. इस पहल से शहर से लेकर गांवों तक दूरसंचार का जाल बिछना शुरू हुआ. जगह-जगह पीसीओ खुलने लगे. इसके बाद 1986 में राजीव की पहल से ही एमटीएनएल की स्थापना हुई, जिससे दूरसंचार क्षेत्र में और प्रगति हुई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here