Home हिंदी निगरानी : 26 ‘निंजा ड्रोन’ रखेंगे रेलवे की सम्पत्ती पर आसमान से...

निगरानी : 26 ‘निंजा ड्रोन’ रखेंगे रेलवे की सम्पत्ती पर आसमान से नजर

780

रेलवे ने अपनी सम्पत्तियों की निगरानी और यात्रियों की सुरक्षा के लिए हाई क्वालिटी ड्रोन निंजा का इस्तेमाल शुरू किया है. ऐसे 26 ड्रोन रेलवे अलग अलग ज़ोन में इस्तेमाल कर रहा है. फ़िलहाल सेंट्रल रेलवे और साउथ सेंट्रल रेलवे में भी इसका बड़े पैमाने पर लाभ मिल रहा है.

 

सस्ता और अधिक सक्षम

ड्रोन का इस्तेमाल रेलवे अपने उन रेलवे यार्ड में निगरानी करने के लिए कर रहा है जहां लम्बी दूरी तक फैलाव है. वहाँ अधिक मैन पावर की आवश्यकता पड़ती है. लेकिन ड्रोन से एरियल व्यू मिलने के कारण ये अधिक सक्षम है. निंजा दरअसल एक ख़ास तरह के ड्रोन का नाम है जिसमें लाईव स्ट्रीमिंग के ज़रिए रियल टाईम में इसमें लगे कैमरों से ली जा रही तस्वीरों को स्क्रीन पर देखा जा सकता है. इसीलिए इससे निगरानी करना अधिक प्रभावकारी है. रेलवे इससे अपने ट्रैक सेक्शन, यार्ड, वर्कशॉप और अन्य रेलवे सम्पत्तियों की निगरानी कर रही है.

ड्रोन उड़ाने के लिए अलग सेल

इन सभी ड्रोन के लिए रेलवे ने डीजीसीए से परमिशन ली है. आरपीएफ़ ने एक आधुनिकीकरण सेल बनाई है जिसमें स्थित विशेष सदस्यों को ड्रोन उड़ाने की ट्रेनिंग और लाइसेंस दिया गया है. ये ड्रोन दो किलोमीटर की दूरी तक अपने कैमरों से निगरानी कर सकते हैं.

एक ड्रोन नौ जवानों के बराबर

आरपीएफ डीजी अरुण कुमार ने बताया कि कुम्भ या त्योहारों में यात्री सुरक्षा के लिए भी ड्रोन बेहद काम के हैं. एक ड्रोन नौ जवानों की जगह निगरानी के लिए तैनात किया जा सकता. रेलवे की सम्पत्तियों की निगरानी करते समय इसकी वजह से कई चोर भी पकड़े जा चुके हैं. इस ड्रोन से लाईव फ़ुटेज हमें मिलती रहती है जिससे प्रभावी निर्णय लेना आसान हो जाता है.