Home हिंदी देशभक्ति दिखाएं : दोस्तों को शायरी से दें स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं

देशभक्ति दिखाएं : दोस्तों को शायरी से दें स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं

816
2

74वां स्वतंत्रता दिवस देश के लिए बेहद ही खास है, 15 अगस्त को भारत अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हुआ था. हजारों लोगों ने अपनी बलिदान दिए,क्रांतिकारियों ने अंग्रेजों से लोहा तब कही जाकर आजाद भारत का ये सपना पूरा हुआ है. आज का दिन हर भारतीय के लिए बेहद खास होता है, ऐसे में इस मौके को और खास बनाने के लिए और देशभक्ति के रंग में रंग जाने के लिए आप स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं अपने करीबी लोगों के साथ शेयर करें.

मैसेज 1

गंगा, यमुना, यहां नर्मदा
मंदिर, मस्जिद के संग गिरजा,
शांति प्रेम की देता शिक्षा,
मेरा भारत सदा सर्वदा।
सभी देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की शुभ कामनाएं !

मैसेज 2

फांसी चढ़ गए और सीने पर गोली खायी,
हम उन शहीदों को प्रणाम करते हैं,
जो मिट गए देश पर, हम उनको सलाम करते हैं !
स्वतंत्रता दिवस मुबारक हो !!!

मैसेज 3

अब तक जिसका खून न खौला, खून नहीं वो पानी है
जो देश के काम ना आये, वो बेकार जवानी है,
15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस की बधाई।

मैसेज 4

कुछ नशा तिरंगे की आन का है,
कुछ नशा मातृभूमि की मान का है,
हम लहराएंगे हर जगह इस तिरंगे को,
हम लहराएंगे हर जगह इस तिरंगे को,
ऐसा नशा ही कुछ हिंदुस्तान की शान का हैं।

मैसेज 5

आजादी की कभी शाम नही होने देंगे,
शहीदों की क़ुरबानी बदनाम नही होने देंगे,
बची हो जो एक बूंद भी लहू की,
बची हो जो एक बूंद भी लहू की,
तब तक भारत माता का आंचल निलाम नही होंगे देंगे

मैसेज 6

वतन हमारा मिसाल है मोहब्बत की,
तोड़ता है दीवारें नफरत की,
ये मेरी खुश नसीबी है जो मिली जिन्दगी इस चमन में…
और भुला न सके कोई भी इसकी खूशबु सातों जनम में…

मैसेज 7

चलो फिर से खुद को जगाते है,
अनुसाशन का डंडा फिर घूमाते है,
सुनहरा रंग है गणतंत्र स्वतंत्रता का,
शहीदों के लहू से ऐसे शहीदों को हम सब सर झुकाते है…

मैसेज 8

आओ झुक कर सलाम करे उन्हें,
जिनकी ज़िन्दगी में ये मुकाम आया है,
किस कदर खुशनसीब है वो लोग,
जिनका लहू भारत देश के काम आया है
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभ कामनायें।

मैसेज 9

दे सलामी इस तिरंगे को
जिस से तेरी शान हैं,
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका
जब तक दिल में जान हैं..!!
जय हिन्द, जय भारत

मैसेज 10

भूल न जाना भारत माँ के सपूतों का बलिदान,
इस दिन के लिए जो हुए थे हंसकर कुर्बान,
आज़ादी की ये खुशियाँ मनाकर लो ये शपथ
की बनायेंगे देश भारत को और भी महान..

मैसेज 11

तिरंगा हमारा शान-ए-जिंदगी,
वतन परस्ती हैं वफा-ए-जमीं,
देश के मर मिटना काबुल है हमें,
अखंड भारत के स्वपन का जुनून हैं हमें…

मैसेज 12

धर्म न हिन्दू का है ना मुसलमान का,
धर्म तो बस इंसानियत का है,
ये भूख से बिलकते बच्चो से पूछों।
सच क्या है झूट क्या है,
किसी मंदिर या मस्जिद से नहीं,
बेगुनाह बच्चो की मौत पर किसी माँ से पूछो,
देश का सपूत बनना है तो कर्तव्य को जानो,
अधिकार की बात न करों देश के लिए जीवन न्योछावर करो।

# आत्मनिर्भर खबर डॉट कॉम डेस्क

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here