Home हिंदी डीआरडीओ द्वारा बनाई गई सब-मशीनगन प्रायोगिक परीक्षणों में खरी उतरी

डीआरडीओ द्वारा बनाई गई सब-मशीनगन प्रायोगिक परीक्षणों में खरी उतरी

नई दिल्ली ब्यूरो : रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा बनाई गई 5.56×30 एमएम की सब-मशीनगन रक्षा मंत्रालय के प्रायोगिक परीक्षणों में सफलतापूर्वक खरी उतरी है. इस बात की घोषणा गुरुवार को की गई. रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि परीक्षणों के सफलतापूर्वक पूरा होने के बाद इस सब-मशीनगन को सशस्त्र बलों में शामिल किए जाने का मार्ग प्रशस्त हो गया है.

रक्षा मंत्रालय के बयान में उल्लेख किया गया कि डीआरडीओ द्वारा विकसित 5.56×30 एमएम की संयुक्त रक्षात्मक उपक्रम कार्बाइन (जेवीपीसी) गैस संचालित अर्ध स्वचालित अस्त्र है और इससे एक मिनट में 700 से अधिक गोलियां दागी जा सकती हैं. इसमें कहा गया कि अंतिम चरण का प्रायोगिक परीक्षण सोमवार को किया गया जिसमें सभी जरूरी मानक प्राप्त कर लिए गए. इस कार्बाइन की प्रभावी रेंज 100 मीटर से अधिक की है.


रीडर्स आप आत्मनिर्भर खबर डॉट कॉम को ट्वीटर, इंस्टाग्राम और फेसबुक पर फॉलो कर रहे हैं ना? …. अबतक ज्वाइन नहीं किया है तो अभी क्लीक कीजिये (ट्वीटर- @aatmnirbharkha1), (इंस्टाग्राम- @aatmnirbharkhabar2020), (फेसबुक- @aatmnirbharkhabar2020) और पाते रहिये हमारे अपडेट्स.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here