Home Health Research | डेंगू वायरस को फैलने से रोकने में मददगार एंटीबॉडी की...

Research | डेंगू वायरस को फैलने से रोकने में मददगार एंटीबॉडी की खोज

718

शोधकर्ताओं ने डेंगू वायरस को शरीर के अंदर फैलने से रोकने में मददगार एंटी बॉडी का पता लगया है. डेंगू वायरस मच्छर जनित रोगजनक है जो सालाना 50 से 100 मिलियन लोगों को संक्रमित करता है. बुखार की वजह बननेवाले डेंगू वायरस के लक्षणों में बुखार, उल्टी और मांसपेशियों का दर्द शामिल है. जबकि बीमारी की गंभीरता बढ़ने से मौत का जोखिम भी होता है. अमेरिका की कैलोफोर्निया यूनिवर्सिटी और मिशिगन यूनिवर्सिटी के साझा रिसर्च में उस एंटी बॉडी की खोज की गई है जो मच्छर से फैलनेवाले डेंगू वायरस को शरीर में फैलने नहीं देता है.

डेंगू वायरस को फैलने से रोकने में मददगार

वर्तमान में, डेंगू वायरस के लिए कोई प्रभावी इलाज या वैक्सीन नहीं है. वायरस का चार अलग स्ट्रेन है, किसी एक किस्म के खिलाफ एंटी बॉडीज का बनना वास्तव में लोगों को अन्य किस्म के मुकाबले ज्यादा कमजोर बना सकता है. जिसके चलते प्रभावी इलाज की खोज ज्यादा मुश्किल है. डेंगू वायरस एक खास प्रोटीन (NS1) का इस्तेमाल अंगों के आसपास हिफाजती कोशिकाओं से चिपके रहने के लिए करता है. जिसके नतीजे में ये सुरक्षा मुहैया करानेवाली रुकावट को कमजोर करता है और वायरस को कोशिका के संक्रमित करने का मौका मिल जाता है. जिससे रक्त वाहिका भी टूट सकती है.

रिसर्च के दौरान शोधकर्ताओं ने 2बी7 एंटी बॉडी की भूमिका को देखा, तो पाया कि ये एनएस1 प्रोटीन को ब्लॉक करने में सफल रहा, जिससे वायरस को कोशिकाओं से जुड़ने से रोका जा सका और वायरस के फैलाव की रफ्तार कम हो गई. उनका कहना है कि ये एंटी बॉडी वायरस के बजाए सीधे प्रोटीन पर हमला करती है. इसलिए, 2बी7 डेंगू वायरस के सभी चारों किस्मों के खिलाफ प्रभावी है. टीम ने एनएस1 प्रोटीन की बनावट को निर्धारित करने के लिए एक्सरे-डिफ्रेक्शन तकनीक का इस्तेमाल किया.

रिसर्च से पता चला कि कैसे एंटी बॉडीज वायरस के खिलाफ सुरक्षा देती है. शोधकर्ताओं ने बताया कि जीवित चूहों में 2बी7 एंटी बॉडी का इस्तेमाल कर डेंगू वायरस को फैलने से रोकने में कामयाबी हासिल हुई. रिसर्च के नतीजे साइंस नामक पत्रिका में प्रकाशित किया गया है. रिपोर्ट के मुताबिक ये एंटी बॉडी डेंगू, जीका और वेस्ट नाइल जैसे अन्य वायरस के खिलाफ भी इलाज में मददगार साबित हुआ. शोधकर्ताओं का कहना है कि मच्छरों से फैलनेवाले वायरस हर साल लाखों लोगों को संक्रमित करते हैं और सैकड़ों लोगों की उससे जुड़ी हुई बीमारियों से मौत होती है. उन्होंने बताया कि डेंगू वायरस के प्रोटीन की बनावट कई बीमारियों के लिए वैक्सीन और दवाइयों के विकास में अहम भूमिका निभाती है, और ये नए नतीजे भी डेंगू के खिलाफ संभावित प्रभावी इलाज के विकास की कुंजी साबित हो सकते हैं.

Previous articleNagpur | जिल्ह्यात 127 ग्रामपंचायत निवडणुकीसाठी आज मतदान
Next articleरेलवे ने जारी की नई दिल्ली रेलवे स्टेशन की तीन नई तस्वीरें
वाचकांनो आपन “आत्मनिर्भर खबर डॉट कॉम” ला ट्वीटर, इंस्टाग्राम आणि फेसबुक पर फॉलो करत आहात ना? अजूनपर्यंत ज्वाइन केले नसेल तर आमच्या अपडेट्स साठी आत्ताच क्लिक करा (ट्वीटर- @aatmnirbharkha1), (इंस्टाग्राम- @aatmnirbharkhabar2020), (यू ट्यूब-@aatmnirbhar khabar )(फेसबुक- @aatmnirbharkhabar2020).