Home हिंदी आत्मनिर्भर : दुकान की नौकरी छोड़ हरीश ने घर से शुरू किया...

आत्मनिर्भर : दुकान की नौकरी छोड़ हरीश ने घर से शुरू किया फुटवियर का ऑनलाइन बिजनेस

710

ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म्स ने आम आदमी की खरीदारी को बेहद आसान बना दिया है. आज हम आपको उत्तर प्रदेश के आगरा के ऑनलाइन सेलर हरीश धर्मदासानी के बारे में बताने जा रहे हैं जो कई ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म से जुड़कर ऑनलाइन कारोबार कर रहे हैं. आज इनका सालाना टर्नओवर 30 करोड़ रुपए से ज्यादा है. बताते चले कि जब उन्होंने दूकान की नौकरी छोड़ी थी तब उन्हें 30 हजार रुपये महीना मिलता था.

हरीश ने बताया कि वे नौकरी से संतुष्ट नहीं थे. नौकरी के दौरान हरीश की मुलाकात कई ऐसे लोगों से हुई जो ऑनलाइन कारोबार करते थे. हरीश को भी ऑनलाइन कारोबार करने का आइडिया मिला. इसके बाद हरीश ने फुटवियर बनाने वालों के साथ मिलकर बिना कोई निवेश किए घर से मेन्स फुटवियर की बिक्री का ऑनलाइन कारोबार शुरू कर दिया. इसके लिए उन्होंने घर में ही छोटा सा सेटअप तैयार किया. हरीश कई ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म्स से जुड़े. शुरुआत में ऑर्डर की संख्या काफी कम थी. अगस्त 2015 में वे ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म फ्लिपकार्ट से जुड़े और इनके कारोबार को गति मिल गई. 30 वर्ष के हरीश 4-5 साल में ही एक सफल ऑनलाइन कारोबारी बन गए हैं.

पत्नी ने बढ़ाई हिम्मत

जब हरीश ने कारोबार शुरू किया था, तब उनके पास रोजाना दो से तीन ऑर्डर ही मिल पाते थे. ऑर्डर की कम संख्या को देखकर हरीश ने कई बार कारोबार बदलने के बारे में भी सोचा. इस दौरान परिवार खासतौर पर पत्नी ने साहस दिया. इसी का नतीजा है कि आज हरीश को रोजाना करीब 5 हजार ऑर्डर मिल रहे हैं. इस समय हरीश का मासिक रेवेन्यू 2 से 3 करोड़ रुपए के बीच है. जबकि सालाना रेवेन्यू 30 करोड़ रुपए से ज्यादा है. उनके पास 25 लोगों की टीम है. हरीश के ब्रांड का नाम लायसा है.

30 हजार महीना था वेतन

हरीश ने बताया कि करीब 18 वर्ष के थे तब उनके पिता की मौत हो गई. पिता की मौत के बाद 2008 में हरीश ने परिवार के पालन-पोषण के लिए आगरा की एक होलसेल दुकान पर नौकरी शुरू कर दी. शुरुआत में हरीश को 6 हजार रुपए मिलते थे. कई वर्षों तक नौकरी के बाद हरीश की सैलरी 30 हजार रुपए हो गई.

कम निवेश से शुरू कर सकते है ऑनलाइन कारोबार

हरीश का कहना है कि कोई भी व्यक्ति ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के जरिए ऑनलाइन कारोबार कर सकता है. बस इसके लिए धैर्य और थोड़ी सी ट्रेनिंग की आवश्यकता होती है. आप अपना ब्रांड रजिस्टर कराकर भी ऑनलाइन कारोबार कर सकते हैं. हरीश के मुताबिक, बड़े ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म से जुड़कर आपके ब्रांड को जल्दी पहचान मिल जाती है. साथ ही सफलता की संभावना ज्यादा रहती है. इसके बाद आपका ब्रांड ही आपकी पहचान होती है. बड़े ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म आपको ट्रेनिंग की सुविधा भी उपलब्ध कराते हैं. खास बात यह है कि कम निवेश और छोटे सेटअप के जरिए भी ऑनलाइन कारोबार शुरू किया जा सकता है.


रीडर्स आप आत्मनिर्भर खबर डॉट कॉम को ट्वीटर, इंस्टाग्राम और फेसबुक पर फॉलो कर रहे हैं ना? …. अबतक ज्वाइन नहीं किया है तो अभी क्लीक कीजिये (ट्वीटर- @aatmnirbharkha1), (इंस्टाग्राम- @aatmnirbharkhabar2020), (फेसबुक- @aatmnirbharkhabar2020और पाते रहिये हमारे अपडेट्स.

Previous articleIPL 2020: हार से निराश कप्तान धोनी, बल्लेबाजों को निशाने पर लिया
Next articleअखियों के झरोखों से : नेत्रहीन गायकों ने दिखाई प्रतिभा की झलक
वाचकांनो आपन “आत्मनिर्भर खबर डॉट कॉम” ला ट्वीटर, इंस्टाग्राम आणि फेसबुक पर फॉलो करत आहात ना? अजूनपर्यंत ज्वाइन केले नसेल तर आमच्या अपडेट्स साठी आत्ताच क्लिक करा (ट्वीटर- @aatmnirbharkha1), (इंस्टाग्राम- @aatmnirbharkhabar2020), (यू ट्यूब-@aatmnirbhar khabar )(फेसबुक- @aatmnirbharkhabar2020).