Home हिंदी मन की बात : भारत को खिलौना बाजार में भी बनाना है...

मन की बात : भारत को खिलौना बाजार में भी बनाना है आत्मनिर्भर- पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत अभियान में Virtual Games हों, Toys का Sector हो, सबने, बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है और ये अवसर भी है. जब आज से सौ वर्ष पहले, असहयोग आंदोलन शुरू हुआ, तो महात्मा गांधी जी ने लिखा था कि – “असहयोग आन्दोलन, देशवासियों में आत्मसम्मान और अपनी शक्ति का बोध कराने का एक प्रयास है.”

आज, जब हम देश को आत्मनिर्भर बनाने का प्रयास कर रहे हैं, तो, हमें, पूरे आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ना है, हर क्षेत्र में देश को आत्मनिर्भर बनाना है. असहयोग आंदोलन के रूप में जो बीज बोया गया था, उसे, अब, आत्मनिर्भर भारत के वट वृक्ष में परिवर्तित करना हम सब का दायित्व है.

युवाओं के सामने रखा गया इनोवेशन चैलेंज

प्रधानमंत्री ने इस समय कहा कि भारतीयों के innovation और solution देने की क्षमता का लोहा हर कोई मानता है और जब समर्पण भाव हो, संवेदना हो तो ये शक्ति असीम बन जाती है. इस महीने की शुरुआत में, देश के युवाओं के सामने, एक app innovation challenge रखा गया. इस आत्मनिर्भर भारत app innovation challenge में हमारे युवाओं ने बढ़-चढ़कर के हिस्सा लिया. करीब, 7 हजार entries आई, उसमें भी, करीब-करीब दो तिहाई apps tier two और tier three शहरों के युवाओं ने बनाए हैं. ये आत्मनिर्भर भारत के लिए, देश के भविष्य के लिए, बहुत ही शुभ संकेत है.

पीएम ने कहा कि कई Business Apps हैं, games के App है, जैसे ‘Is EqualTo’, Books & Expense, Zoho (जोहो) Workplace, FTC Talent. आप इनके बारे में net पर search करिए, आपको बहुत जानकारी मिलेगी. आत्मनिर्भर app innovation challenge के results देखकर आप ज़रूर प्रभावित होंगे. आप ये मत भूलिये कि आज जो दुनिया में बहुत बड़ी-बड़ी कम्पनियाँ नज़र आती हैं ना, ये भी, कभी, startup हुआ करती थी.

पीएम मोदी ने कहा कि आपदा प्रबंधन और बचाव मिशन में कुत्ते महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. भारत में, एनडीआरएफ (NDRF) ने ऐसे दर्जनों कुत्तों को प्रशिक्षित किया है. ये कुत्ते भूकंप या इमारत ढहने के मलबे के नीचे जीवित व्यक्तियों का भी पता लगाने में माहिर हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here