Home Business खबर पक्की है | भारत में बन रही पहली फ्लाइंग कार; ये...

खबर पक्की है | भारत में बन रही पहली फ्लाइंग कार; ये बैटरी और बायो फ्यूल दोनों से उड़ेगी

646

उड़ने वाली कार अब सपना नहीं है। अमेरिका का फेडरल एविएशन ऐडमिनिस्ट्रेशन फ्लाइंग कार को उड़ने की परमिशन दे चुका है। वहीं, कुछ और कंपनियां इसे लेकर तेजी से काम कर रही हैं। अब भारत की विनाटा एयरोमोबिलिटी कंपनी का नाम भी इस लिस्ट में शामिल हो गया है। चेन्नई स्थित ये कंपनी इस हाइब्रिड फ्लाइंग कार को बना रही है। कंपनी ने पहली बार कार का मॉडल सिविल एविएशन मिनिस्टर ज्योतिरादित्य सिंधिया को दिखाया।

सिंधिया ने कहा कि विनाटा एयरोमोबिलिटी एशिया की पहली हाइब्रिड फ्लाइंग कार को जल्द तैयार कर लेगी। इस कार का इस्तेमाल लोगों के ट्रैवल के अलावा मेडिकल इमरजेंसी सर्विसेज में भी किया जाएगा। अमेरिका में फेडरल एविएशन ऐडमिनिस्ट्रेशन ने ऐसी ही एक कार को परमिशन दी है, जो 10 हजार फीट तक की ऊंचाई पर उड़ने में सक्षम है।

5 अक्टूबर को लंदन में लॉन्च की जा सकती है

कंपनी ने अपने ऑफिशियल यूट्यूब चैनल पर 14 अगस्त 2021 को 36 सेकेंड का वीडियो अपलोड किया था। इसके मुताबिक ये कार 5 अक्टूबर को लंदन में लॉन्च की जा सकती है। हालांकि अभी इसकी कीमत को लेकर कोई जानकारी सामने नहीं आई है। लॉन्चिंग के वक्त इसकी कीमत का खुलासा किया जा सकता है।

क्या होती है हाइब्रिड कार?

देखने में हाइब्रिड कार एक सामान्य कार जैसी होती है, लेकिन इसमें दो इंजन का उपयोग किया जाता है। इसमें पेट्रोल/डीजल इंजन के साथ इलेक्ट्रिक मोटर होती है। इस तकनीक को हाइब्रिड कहा जाता है। अब ज्यादातर कंपनियां इसी तरह की कारों पर काम कर रही हैं।

ये है कार की विशेषताएं
  1. इस हाइब्रिड फ्लाइंग कार का फ्रंट किसी बुलेट ट्रेन की डिजाइन की तरह दिखता है। नीचे की तरफ कार के जैसा उठा हुआ चेसिस दिया है, जिसमें व्हील लगाए गए हैं। इसी हिस्से में फ्लाइंग विंग्स को जोड़ा गया है। इसके लिए एक पिलर दिया है जिसमें ऊपर और नीचे विंग्स दिए हैं। कार के चारों तरफ ऐसे पिलर लगाए गए हैं। कार में चारों तरफ ब्लैक ग्लास का इस्तेमाल किया गया है।
  2. इस फ्लाइंग कार के इंटीरियर को नहीं दिखाया गया है। हालांकि कंपनी ने जो कॉन्सेप्ट सिंधिया के सामने पेश किया, उसके मुताबिक इसमें दो पैसेंजर उड़ पाएंगे। मेड इन इंडिया फ्लाइंग कार बिजली के साथ बायो फ्यूल से भी चलेगी, ताकि इसकी फ्लाइंग कैपेसिटी को बढ़ाया जा सके। हालांकि इसकी कैपेसिटी को लेकर अभी जानकारी नहीं मिली है।
  3. फ्लाइंग कार का वजन 1100 किलोग्राम होगा। ये अधिकतम 1300 किलोग्राम वजन उठा सकेगी। कार का एयरक्राफ्ट हाइब्रिड इलेक्ट्रिक वर्टिकल टेक-ऑफ और लैंडिंग (VTOL) है। इसका रोटर कॉन्फिगरेशन को-एक्सियल क्वाड-रोटर है। कार में एक बैकअप पावर भी होगा, जो पावर कट होने की स्थिति में मोटर को बिजली सप्लाई करेगा। इसमें GPS ट्रैकर, 300 डिग्री व्यू देने वाली पैनोरमिक विंडो भी मिलेगी।
Previous articleSocial Media | भारत के पूर्व प्रधानमंत्रियों की यादें ताजा कर दी पीएम मोदी ने
Next articleकेंद्राचा खुलासा । ‘हिंदू खतरे में है’ हा निव्वळ जुमला, भाजपवर 302 खाली गुन्हा दाखल करा- काँग्रेसची मागणी
वाचकांनो आपन “आत्मनिर्भर खबर डॉट कॉम” ला ट्वीटर, इंस्टाग्राम आणि फेसबुक पर फॉलो करत आहात ना? अजूनपर्यंत ज्वाइन केले नसेल तर आमच्या अपडेट्स साठी आत्ताच क्लिक करा (ट्वीटर- @aatmnirbharkha1), (इंस्टाग्राम- @aatmnirbharkhabar2020), (यू ट्यूब-@aatmnirbhar khabar )(फेसबुक- @aatmnirbharkhabar2020).