Home Omicron नए ओमिक्रॉन ने उड़ाई दुनिया की नींद, भारत समेत 40 देशों में...

नए ओमिक्रॉन ने उड़ाई दुनिया की नींद, भारत समेत 40 देशों में दस्तक

319
0

कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन लगभग पूरी दुनिया में अपने पैर पसार चुका है। अब ओमिक्रॉन के तेजी से फैल रहे एक नए सब-स्ट्रेन (BA.2) ने दुनिया की नींद उड़ा दी है। ओमिक्रॉन के सब-वैरिएंट से इसलिए भी ज्यादा खतरा है, क्योंकि RT-PCR टेस्ट भी इसे पकड़ नहीं पा रहे हैं।

अब तक ये नया सब-वैरिएंट दुनिया के भारत समेत 40 देशों में दस्तक दे चुका है और माना जा रहा है कि ये वैरिएंट बहुत तेजी से दुनिया के बाकी देशों में भी फैल सकता है।

कोरोना वैरिएंट ओमिक्रॉन के एक नए सब वैरिएंट BA.2 की पहचान की गई है। इसे ‘स्टेल्थ ओमिक्रॉन’ कहा जा रहा है। ये नया सब वैरिएंट ओमिक्रॉन के बाकी स्ट्रेन को पीछे छोड़ते हुए दुनिया के कई देशों में तेजी से फैल रहा है। कुछ एक्सपर्ट इसे कोरोना का नया वैरिएंट और कुछ ‘ओमिक्रॉन का भाई’ बता रहे हैं।

‘स्टेल्थ ओमिक्रॉन’ कहे जा रहे इस सब वैरिएंट के केस भारत समेत दुनिया के 40 देशों में पाए जा चुके हैं। ‘स्टेल्थ ओमिक्रॉन’ को पहले के स्ट्रेन से भी ज्यादा तेजी से फैलने वाला माना जा रहा है और इससे दुनिया में कोरोना की और भी भयावह लहर आने का खतरा पैदा हो गया है।

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन ने 26 नवंबर 2021 को ओमिक्रॉन या B.1.1.529 को वैरिएंट ऑफ कंसर्न घोषित किया था। WHO के मुताबिक ओमिक्रॉन के तीन सब वैरिएंट: BA.1, BA.2, और BA.3 हैं। 23 दिसंबर 2021 तक ओमिक्रॉन के 99% सीक्वेंस्ड केसेस में सब वैरिएंट BA.1 पाया गया था, लेकिन पिछले कुछ दिनों में ओमिक्रॉन का दूसरा सब वैरिएंट BA.2 या ‘स्टेल्थ ओमिक्रॉन’ तेजी से फैल रहा है।

माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में नए सब-वैरिएंट की वजह से भारत समेत दुनिया भर में कोरोना केसेस तेजी से बढ़ सकते हैं।

UK की हेल्थ सिक्योरिटी एजेंसी (UKHSA) ने ‘स्टेल्थ ओमिक्रॉन’ कहे जा रहे कोरोना के नए सब-वैरिएंट को ‘वैरिएंट अंडर इन्वेस्टिगेशन’ में रखा है। किसी वायरस की गंभीरता के हिसाब से उसे अलग-अलग श्रेणी में रखा जाता है। वैरिएंट अंडर इन्वेस्टिगेशन-वैरिएंट ऑफ कंसर्न से एक लेवल नीचे की श्रेणी है।

ब्रिटेन में 10 जनवरी तक नए ‘स्टेल्थ ओमिक्रॉन’ के 426 केस मिल चुके थे। हालांकि नए सब-वैरिएंट के केसेस की वास्तविक संख्या इससे कहीं ज्यादा हो सकती है, क्योंकि काफी कम केसेस की ही नए सब वैरिएंट के लिहाज से जांच होती है।

Previous articleयेत्या प्रजासत्ताक दिनापासून पर्यटकांशी बोलतील पेंच अभयारण्यातील झाडे अन् प्राणी
Next articleदो साल से 80% घाटे में भारतीय फिल्म इंडस्ट्री, 21000 करोड़ का नुकसान
वाचकांनो आपन “आत्मनिर्भर खबर डॉट कॉम” ला ट्वीटर, इंस्टाग्राम आणि फेसबुक पर फॉलो करत आहात ना? अजूनपर्यंत ज्वाइन केले नसेल तर आमच्या अपडेट्स साठी आत्ताच क्लिक करा (ट्वीटर- @aatmnirbharkha1), (इंस्टाग्राम- @aatmnirbharkhabar2020), (यू ट्यूब-@aatmnirbhar khabar )(फेसबुक- @aatmnirbharkhabar2020).

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here