Home National Eid Milad-un-Nabi | क्यों मनाई जाती है ईद-ए-मिलादुन्नबी, जानें इसका महत्व

Eid Milad-un-Nabi | क्यों मनाई जाती है ईद-ए-मिलादुन्नबी, जानें इसका महत्व

देश के अन्य राज्यों के साथ-साथ महाराष्ट्र में भी ईद मिलादुन्नबी की तैयारियां हो चुकी है। मंगलवार, 19 अक्टूबर को ईद मिलादुन्नबी मनाई जाएगी। हालांकि महाराष्ट्र सरकार के द्वारा कोविड-19 गाइड लाइन को देखते हुए मुस्लिम समाज ने यह फैसला लिया है कि राज्य में ईद मिलादुन्नबी का जुलूस नहीं निकाला जाएगा। कोविड-19 के गाइडलाइन को देखते इस वर्ष यह तय किया गया है कि ईद मिलादुन्नबी के जुलूस को मोहल्ले में ही निकाला जाएगा और वापस फिर लोग अपने घर को चले जाएंगे।

हर वर्ष ईद मिलादुन्नबी के मौके पर मुस्लिम बहुल क्षेत्रो से विशाल जुलूस निकाला जाता था, जो संबंधित महानगर और गांवों के मुख्य चौराहों से होते हुए वापस लोग अपने घर को चले जाते थे। इस दौरान मुस्लिम सामाजिक संस्थाओं के द्वारा फलों और मिठाइयों का वितरण भी किया जाता था। जुलूस में शामिल लोगों के ऊपर फूलों की बारिश भी की जाती थी और इसके बाद लोग फातिहा खानी कर जरूरतमंदों के बीच खाना और वस्त्र का भी वितरण कर अपने घर को चले जाते थे।

क्यों मनाई जाती है ईद मिलादुन्नबी

571 ईसवी, को सऊदी अरब के शहर मक्का में पैगंबर साहब हजरत मुहम्मद (सल्ल) का जन्म हुआ था। इसी की याद में ईद मिलादुन्नबी का पर्व मनाया जाता है। हजरत मुहम्मद (सल्ल) ने ही इस्लाम धर्म को मजबूती के साथ पूरी दुनिया में कायम किया है। आप हजरत मोहम्मद,(सल्ल) इस्लाम के आखिरी नबी हैं, आपके बाद अब कयामत तक कोई नबी नहीं आने वाला है। मक्का की पहाड़ी की गुफा, जिसे गार-ए-हिराह कहते हैं, मोहम्मद (सल्ल) को वहीं पर (अल्लाह) रब्बुल इज्जत ने फरिश्तों के सरदार जिब्राइल, (अलै) के मार्फत पवित्र संदेश सुनाया।

(अल्लाह) रब्बुल इज्जत, के रसूल मोहम्मद, (सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम) से पहले पूरा अरब सामाजिक और धार्मिक बिगाड़ का शिकार था। लोग तरह-तरह के बूतों की पूजा करते थे। सैकड़ों की तादाद में, कबीले थे, जिनके अलग-अलग नियम और कानून थे। कमजोर और गरीबों पर जुल्म होते थे और औरतों का जीवन सुरक्षित नहीं था। आप (सल्ल) ने लोगों को एक ईश्वरवाद की शिक्षा दी। अल्लाह की प्रार्थना पर बल दिया। लोगों को पाक-साफ रहने के नियम बताए। साथ ही सभी लोगों के जानमाल की सुरक्षा के लिए भी इस्लामिक तरीके लोगों तक पहुंचाए। साथ ही (अल्लाह) रब्बुल इज्जत, के पवित्र संदेश को भी सभी लोगों तक पहुंचाया।


  • भारत सरकारने फेब्रुवारी 2021 पासून अधिसूचित केलेल्या नवीन माहिती तंत्रज्ञान (मध्यस्थ मार्गदर्शक सूचना आणि डिजिटल माध्यमांसाठीची आचार संहिता) नियम 2021 अंतर्गत असलेल्या डिजिटल माध्यमांसाठीच्या आचारसंहितेचे आम्ही पालन करतो. वाचकांना एखाद्या बातमी विषयी आपली तक्रार करायची असल्यास आमच्या वेब माध्यम तक्रार निवारण अधिकारी आणि स्वनियमन संस्थेकडे विहित नमुन्यात अर्ज करू शकता. आपल्या तक्रारीचे निराकरण केले जाईल. प्रकाशक : (ई-मेल)- aatmnirbharkhabar@gmail.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here