Home Navratri Navratri 2021 । अलग-अलग डांस फॉर्म हैं गरबा और डांडिया, जानें इन...

Navratri 2021 । अलग-अलग डांस फॉर्म हैं गरबा और डांडिया, जानें इन दोनों का फर्क

636
न सिर्फ गुजराती बल्कि डांडिया और गरबा से प्यार करने वाला हर शख्स नवरात्रि के नौ दिनों का बेसब्री से इंतजार करता है। वैसे तो गरबा खुशी का प्रतीक है और इसे किसी भी अवसर पर किया जा सकता है लेकिन नवरात्रि के दौरान होने वाले डांडिया नाइट और गरबा के आयोजन की बात ही कुछ और है। लेकिन क्या आप जानती हैं कि गरबा और डांडिया एक नहीं बल्कि अलग-अलग डांस फॉर्म हैं। इसलिए ग्राउंड पर पहुंचने से पहले जान लें कि इन दोनों में क्या अंतर है.
एक आरती से पहले एक बाद में

तकनीकी रूप से देखा जाए तो गरबा और डांडिया में सबसे पहला अंतर यह है कि गरबा, माताजी की आरती से पहले किया जाता है जबकि डांडिया आरती होने के बाद।

इस तरह गरबा से अलग है डांडिया

एक खास तरह की रंग-बिरंगी डांडिया स्टिक से डांडिया किया जाता है और इसके डांस स्टेप्स गरबा से अलग और थोड़े कठिन होते हैं।

गरबा दीप के चारों ओर परफॉर्मेंस

पारंपरिक गरबा दीप के चारों ओर परफॉर्म किए जाने वाले डांस को गरबा कहा जाता है। इसमें तालियां बजाकर डांस किया जाता है। क्या आप जानते हैं कि इस डांस फॉर्म का नाम गरबा क्यों है? दरअसल, गरबा, गर्भ शब्द से आया है और गरबा नृत्य मां के गर्भ में पलने वाले बच्चे के जीवन को दर्शाता है।

Photo : Umesh Varma, Moonlight, Dharampeth, Nagpur
बजने वाले गानों में भी होता है अंतर

गरबा डांस हमेशा गोल-गोल घूमकर किया जाता है जबकि डांडिया के लिए ऐसा कोई नियम नहीं है और इसे अकेले या जोड़े में किसी भी तरह से कर सकते हैं। डांडिया में जहां राधा-कृष्ण और कृष्ण लीला के गाने गाए या बजाए जाते हैं, वहीं गरबा में बजने वाले ज्यादातर गाने माताजी से जुड़े होते हैं।

स्पेस का भी है अंतर

डांडिया डांस करने के लिए बहुत अधिक जगह की जरूरत होती है और इसलिए इसे किसी कमर्शल वेन्यू पर ही आयोजित किया जा सकता है। जबकि गरबा के लिए अधिक जगह की जरूरत नहीं होती। इसे मंदिर के प्रांगण में या किसी ऐसे पूजा रूम में भी किया जा सकता है जिसमें थोड़ी ज्यादा जगह हो।

पहले सिर्फ महिलाएं करतीं थीं गरबा

आपको आज यह जानकर हैरानी होगी कि मूल रूप से जब इन दोनों नृत्य की शुरूआत हुई थी तब गरबा सिर्फ महिलाएं कर सकतीं थीं जबकि डांडिया डांस महिला और पुरुष दोनों कर सकते थे। हालांकि अब ऐसी कोई पाबंदी नहीं है और महिला और पुरुष दोनों ही गरबा और डांडिया दोनों डांस फॉर्म करते हैं।

Shardiya Navratri 2021 | क्यों मनाई जाती है नवरात्रि? जानें इसका इतिहास और महत्व

Previous articleDevta Life Foundation | विजयादशमीला नागपुरात दाखल होणार वंदे मातरम रक्तदान महारॅली
Next articleIGNOU Result 2021 | इग्नू ने जारी किए रिजल्ट, यूजी और पीजी कोर्स में अब 25 अक्टूबर तक हो सकेगा ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन
वाचकांनो आपन “आत्मनिर्भर खबर डॉट कॉम” ला ट्वीटर, इंस्टाग्राम आणि फेसबुक पर फॉलो करत आहात ना? अजूनपर्यंत ज्वाइन केले नसेल तर आमच्या अपडेट्स साठी आत्ताच क्लिक करा (ट्वीटर- @aatmnirbharkha1), (इंस्टाग्राम- @aatmnirbharkhabar2020), (यू ट्यूब-@aatmnirbhar khabar )(फेसबुक- @aatmnirbharkhabar2020).