Home Business Launching | भारत के दूसरे सबसे बड़े दूध ब्रांड ‘नंदिनी’ का विदर्भ...

Launching | भारत के दूसरे सबसे बड़े दूध ब्रांड ‘नंदिनी’ का विदर्भ में पदार्पण

पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने नागपुर में ‘ नंदिनी पाश्चराइज्ड स्पेशल टोंड मिल्क, मानकीकृत दूध, फुल क्रीम दूध और दही’ लॉन्च किया


नागपुर ब्यूरो : भारत के दूसरे सबसे बड़े सहकारी दूध ब्रांड ‘नंदिनी’ ने नागपुर में रविवार, 1 अगस्त को बेहद शानदार ढंग से प्रवेश किया है। पूर्व मुख्यमंत्री और महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने इसके विभिन्न उत्पादों ‘नंदिनी पाश्चराइज्ड स्पेशल टोंड मिल्क’, ‘मानकीकृत दूध’, ‘ फुल क्रीम दूध’ और ‘दही’ को लांच किया। इस अवसर पर नागपुर शहर के महापौर दयाशंकर तिवारी, कर्नाटक दुग्ध महासंघ के अध्यक्ष (केएमएफ) बालचंद्र एल. जरकीहोली, विजयपुरा दुग्ध संघ, केएमएफ निदेशक मंडल के अध्यक्ष संभाजी एस. मिसाले, केएमएफ के केसीएस/ प्रबंध निदेशक बी.सी. सतीश और अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने इस समय अपने अध्यक्षीय भाषण मे कहा कि मैं केएमएफ के चेयरमैन का तहेदील से शुक्रिया अदा करना चाहता हूँ कि इस कोरोना काल में भी उन्होने अपने उत्पादनो को हमारी संत्रानगरी में लाँच करने का एक सकारात्मक निर्णय लिया. जहाँ महाराष्ट्र में कुछ पुंजीपातियो ने सहकार क्षेत्र पर अपना कब्जा जमाया हैं, वही आज भारत के विभिन्न राज्यों में अपने कार्यक्षमता एवं दृद्ध संकल्प से हजारों हाथों को रोजगार देने का कार्य सराहनिय हैं. मुझे यहाँ बडे खेद के साथ कहना पड़ रहा हैं कि सरकार की दुग्ध उत्पादक योजना यहाँ असफल हो रही हैं बल्की निजी कंपनीयां और नेताओ की संस्थाए दुग्ध उत्पादको से से कम भाव मे दुग्ध खरीदकर उसे दोगुना भाव में बेचकर मुनाफा कमा रही हैं.

मैने हमारे पूर्व विधायक संजय धोटे के अथक परिश्रमो से KMF ने अपने उत्पादनो को नागपुरसह विदर्भ मे लांच करने का निर्णय लिया. मैने अपने कार्यकाल मे केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के सहयोग से नागपुर मे मदर डेअरी को लाया. आज उनका क्षेत्र विदर्भ से बढकर पुरे राज्य मे फैल रहा हैं. पूर्व विदर्भ में आपको दुग्ध संकलन केंद्रो का अच्छा प्रतिसाद मिलेगा. उन्होने KMF के चेयरमैन से कहा कि नागपुर तथा विदर्भ की जनता को दुग्ध संकलन केंद्र से जोडीये तथा उनके दुग्ध को अच्छा दाम भी मिले और आपको भी क्वालिटी दुग्ध मिले. महाराष्ट्र में 1 लाख लीटर से 2 करोड 20 लाख लीटर की जरुरत हैं.

महापौर दयाशंकर तिवारी ने अपने संबोधन में कहा, भारत का द्वितीय सबसे ज्यादा दुग्ध एवं दुग्ध पदार्थ बनानेवाली कर्नाटक मिल्क फेडरेशन ने महाराष्ट्र की उपराजधानी में अपने उत्पाद को लाँच करने के लिए चुना इसलिये हम आपका स्वागत करते हैं. आपके दुग्ध उत्पादनो को नागपुर नगरी स्वीकार करेंगी यह हम आशा करते हैं. हम उम्मीद करते हैं कि आपके यहाँ आने से नागपुर एवं विदर्भ में रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे।

कुलकर्णी ने मंच पर उपस्थित सभी अतिथीगनो का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि हम क्वालिटी, कॉस्ट और डिलीवरी पर विशेष ध्यान देते हैं.

गौरतलब है कि केएमएफ वर्तमान में कर्नाटक, गोवा और मुंबई, पुणे, सोलापुर, चेन्नई, हैदराबाद, विजयवाड़ा सहित देश के विभिन्न शहरों में पहले से ही तरल दूध का कारोबार कर रहा है। लेकिन अब अपना विस्तार करते हुए नागपुर, वर्धा सहित महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्रों में भी ले जा रहा है। इसमें यवतमाल, चंद्रपुर, आदि का नाम भी शामिल है।

केएमएफ 23,600 गाँवों, 14,500 दुग्ध सहकारी समितियों, 14 जिला दुग्ध संघों, 25 लाख दूध उत्पादक सदस्यों को प्रतिदिन 90.62 लाख लीटर दूध खरीदी के साथ किसानों को 24 करोड़ रुपये का दैनिक बिज़नेस दे रहा है। फिलहाल केएमएफ के पास 140 से अधिक दुग्ध उत्पाद हैं।

केएमएफ Tetra-fino UHT दूध की बिक्री में देश में अग्रणी और देश में सबसे बड़ा दही उत्पादक और विक्रेता है। इसके अलावा घी, यूएचटी दूध (गुडलाइफ) जैसे मेनलाइन दूध उत्पादों के विपणन के लिए देश भर में नेटवर्क बनाया है। संयुक्त राज्य अमेरिका, मध्य पूर्व के देशों और ऑस्ट्रेलिया में दूध उत्पादों का निर्यात करना।

उल्लेखनीय है कि कर्नाटक एक मजबूत सहकारी डेयरी आंदोलन की बदौलत पिछले 4 दशकों से दूध की कमी वाले राज्य से अब दूध-अधिशेष वाले राज्य में बदल गया है। केएमएफ तीन महत्वपूर्ण मोर्चों पर उत्कृष्टता प्राप्त करने का प्रयास कर रहा है, जैसे व्यवसाय की गुणवत्ता, लागत और वितरण एक विषय के साथ – गाय से उपभोक्ता तक गुणवत्ता उत्कृष्टता।

विभिन्न प्रकार के दूध लांच
  • नंदिनी स्पेशल टोंड मिल्क: यह न्यूनतम 3.5% मिल्क फैट और न्यूनतम 8.5% दूध एसएनएफ सामग्री के साथ सबसे अधिक बिकने वाला और सबसे पसंदीदा दूध है; जो दूध को सभी उद्देश्यों और सभी आयु समूहों के उपभोक्ताओं के लिए सबसे अच्छा विकल्प बनाता है। यह 200 एमएल, 500 एमएल और 1 लीटर प्रति रुपये के पाउच में उपलब्ध होगा। इसकी कीमत क्रमशः 10/-, 23/- और 46/- रखी गयी है।
  • नंदिनी होमोजेनाइज्ड मानकीकृत दूध: यह 4.5% दूध वसा और न्यूनतम 8.5% दूध एसएनएफ के साथ स्वादिष्ट और मलाईदार होता है। समरूप होने के कारण अधिक कप चाय/कॉफी देता है। यह 450 मिलीलीटर पाउच में रुपये में उपलब्ध है। इसकी कीमत 23/- रुपये रखी गयी है।
  • नंदिनी फुल क्रीम दूध: 6% दूध वसा और न्यूनतम 9% दूध एसएनएफ के साथ मलाईदार और स्वाद से भरपूर। मिठाई और गाढ़ा दही बनाने के लिए आदर्श। 500 मिली और 1 लीटर में उपलब्ध है। इसकी कीमत 28/- और 56/ रखी गयी है।
  • नंदिनी दही: पाश्चरीकृत टोंड दूध से बने ठोस दूध के साथ। पारंपरिक घर में बने दही की तरह स्वाद। पाचन में सुधार और प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में मदद करता है। 200 ग्राम, 400 ग्राम और 1 किलोग्राम में उपलब्ध है। इसकी कीमत क्रमशः 15/-, 26/- और 55/- है।
  • कर्नाटक मिल्क फेडरेशन (केएमएफ) के केसीएस – प्रबंध निदेशक / सीईओ बीसी सतीश के अनुसार विदर्भ में नंदिनी दूध उत्पादों की अन्य रेंज भी है, जैसे कि लंबी शेल्फ लाइफ यूटी ट्रीटेड गुडलाइफ मिल्क, घी, फ्लेवर्ड मिल्क (बादाम, पिस्ता, आम आदि) खाने के लिए तैयार मिठाइयाँ जैसे गुलाब जामुन, रसगुल्ला, रेडी मिक्स जैसे पायसा मिक्स, बादाम दूध मिश्रण।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here