Home हिंदी International Friendship Day | जानिए क्यों मनाया जाता है फ्रेंडशिप डे, क्या...

International Friendship Day | जानिए क्यों मनाया जाता है फ्रेंडशिप डे, क्या है इसका इतिहास

कहा जाता है कि जीवन में अगर सच्चा फ्रेंड मिल जाए तो समझिए आपने सही मायने में कुछ कमाया है. फ्रेंडशिप एक ऐसा रिश्ता है जो आपसी समझ पर चलता है. हम अपने फ्रेंड से कभी भी और कुछ भी बेझिझक कह सकते हैं और शेयर कर सकते हैं. सच्चा फ्रेंड आपके दुख में सहारा बनकर आपके साथ रहता है और खुशियों में उत्साह के रंग भरता है. यानी फ्रेंडशिप एक ऐसा रिश्ता है जिसमें आप जिंदगी के कई रूप एक साथ देखते हैं.

फ्रेंडशिप के इसी बॉन्ड को और मजबूत करने के लिए हर साल अगस्त के महीने के पहले रविवार को इंटरनेशनल फ्रेंडशिप डे मनाया जाता है. इस बार फ्रेंडशिप डे 1 अगस्त 2021 को मनाया जाएगा. फ्रेंडशिप डे के जरिए हम एक दूसरे के प्रति प्यार और सम्मान व्य​क्त करते हैं. एक दूसरे को गिफ्ट देकर और पार्टी आदि करके फ्रेंडशिप डे का जश्न मनाते हैं और अपनी फ्रेंडशिप की नींव को और मजबूत करते हैं. आइए इस मौके पर आपको बताते हैं कैसे हुई थी इस दिन की शुरुआत.

फ्रेंडशिप डे को लेकर कई तरह की कहानियां प्र​चलित हैं. एक कहानी के अनुसार फ्रेंडशिप डे की शुरुआत 1935 में अमेरिका से हुई थी. कहा जाता है कि अगस्त के पहले रविवार को अमेरिकी सरकार ने एक व्यक्ति को मार दिया था. उस व्यक्ति की मौत से उसका फ्रेंड भी सदमे में चला गया और उसने भी अपने फ्रेंड के चले जाने के गम में आत्महत्या कर ली. उसी दिन से सरकार ने अगस्त के पहले रविवार को फ्रेंडशिप डे के रूप में सेलिब्रेट करने का निर्णय लिया.

वहीं एक अन्य कहानी के अनुसार सन 1919 में फ्रेंडशिप डे की शुरुआत हुई. इसका श्रेय हॉलमार्क कार्डस के संस्थापक जॉएस हॉल को जाता है. बताया जाता है कि उस समय लोग अपने दोस्तों को फ्रेंडशिप डे के कार्ड भेजा करते थे. तब से ये फ्रेंडशिप डे आज तक मनाया जा रहा है. हालांकि साल 27 अप्रैल 2011 को संयुक्त राष्ट्र संघ ने इसकी तारीख 30 जुलाई तय कर दी. लेकिन भारत में ये अगस्त के पहले रविवार को मनाया जाता है.

एक अन्य कहानी के मुताबिक साल 1930 में जोएस हाल नाम के एक व्यापारी ने इस दिन की शुरुआत की थी. व्यापारी ने इस दिन को सेलिब्रेट करने के लिए 2 अगस्त का दिन चुना था, ताकि इस दिन सभी दोस्त आपस में मिलकर एक दूसरे को कार्ड देकर दोस्ती का आभार व्य​क्त कर सकें और एक दूसरे के साथ समय बिता सकें. बाद में यूरोप और एशिया के बहुत से देशों ने इस परंपरा को आगे बढ़ाते हुए फ्रेंडशिप डे की शुरुआत की.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here